Republic Day Latest Wallpapers 2016

Republic Day Latest Wallpapers 2016 & Martyr Quotes in Hindi, Martyr Suvichar : Check out latest and unique Republic day wallpapers and download them for free. This 26TH of January, India is going to celebrate its 67th republic day. For this occasion wallpapers and images might be needed for desktop background and for sharing with friends and family as we all do chat on a very large extend on WhatsApp, Facebook or other social media network. If you are interested in having latest wallpapers of 2016, you will surely happy to know that you are right place. Here you will find republic day wallpapers, republic day images, republic day wallpapers 2016. On our website you can find the happy republic day SMS, images, pictures, wallpapers, speech and wishes. Its all free and very easy to download. You are just one click away from making it yours. Just check out our unique and latest collection of Republic Day Latest Wallpapers 2016.

11 BEST Latest Wallpapers for Republic Day 2016

शहादत कुछ ख़त्म नहीं करती , वो महज़ शुरआत है
शहादत कुछ ख़त्म नहीं करती , वो महज़ शुरआत है

आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके. – सुभाष चन्द्र बोस
आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके. – सुभाष चन्द्र बोस

याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है.
याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है.

एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है .
एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है .

एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है .
एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है .

उरूजे कामयाबी पर कभी हिन्दोस्ताँ होगा ! रिहा सैयाद के हाथों से अपना आशियाँ होगा !!  चखाएँगे मज़ा बर्बादिए गुलशन का गुलचीं को ! बहार आ जाएगी उस दम जब अपना बाग़बाँ होगा !!  ये आए दिन की छेड़ अच्छी नहीं ऐ ख़ंजरे क़ातिल ! पता कब फ़ैसला उनके हमारे दरमियाँ होगा !!  जुदा मत हो मेरे पहलू से ऐ दर्दे वतन हरगिज़ ! न जाने बाद मुर्दन मैं कहाँ औ तू कहाँ होगा !!  वतन की आबरू का पास देखें कौन करता है ! सुना है आज मक़तल में हमारा इम्तिहाँ होगा !!
उरूजे कामयाबी पर कभी हिन्दोस्ताँ होगा ! रिहा सैयाद के हाथों से अपना आशियाँ होगा !!
चखाएँगे मज़ा बर्बादिए गुलशन का गुलचीं को ! बहार आ जाएगी उस दम जब अपना बाग़बाँ होगा !!
ये आए दिन की छेड़ अच्छी नहीं ऐ ख़ंजरे क़ातिल ! पता कब फ़ैसला उनके हमारे दरमियाँ होगा !!
जुदा मत हो मेरे पहलू से ऐ दर्दे वतन हरगिज़ ! न जाने बाद मुर्दन मैं कहाँ औ तू कहाँ होगा !!
वतन की आबरू का पास देखें कौन करता है ! सुना है आज मक़तल में हमारा इम्तिहाँ होगा !!