वतन-परस्ती (देश-भक्ति) के विषय पर लोकप्रिय शेर-ओ-शायरी

इंसाँ की ख़्वाहिशों की कोई इंतिहा नहीं
दो गज़ ज़मीं भी चाहिए दो गज़ कफ़न के बाद

(इंतिहा = उच्चतम सीमा)

Insaan ki khwaahishon ki koi intiha nahin
Do gaz jameen bhi chaahiye do gaz kafan ke baad

बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में
कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

Bas ik jhijhak hai yahi haal-e-dil sunaane mein
Ki tera zikr bhi aayega is fasaane mein

गर डूबना ही अपना मुक़द्दर है तो सुनो
डूबेंगे हम ज़रूर मगर नाख़ुदा के साथ

(नाख़ुदा = नाविक, केवट, नाव चलने वाला)

Gar doobana hi apna muqaddar hai to suno
Doobaenge ham jaroor magar nakhuda ke saath

ग़ुर्बत की ठंडी छाँव में याद आई उस की धूप
क़द्र-ए-वतन हुई हमें तर्क-ए-वतन के बाद

(तर्क-ए-वतन = देश छोड़ना)

Gurbat ki thandi chhanv mein yaad aai us ki dhoop
Kadr-e-watan hui hamein tarq-e-watan ke baad

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ
वीरानियाँ तो सब मिरे दिल में उतर गईं

Ab jis taraf se chaahe gujar jaaye kaaranva
Veeraniyan to sab mire dil mein utar gai

जो इक ख़ुदा नहीं मिलता तो इतना मातम क्यूँ
मुझे खुद अपने कदम का निशाँ नहीं मिलता

Jo ik khuda nahin milata to itna maatam kyun
Mujhe khud apne kadam ka nishaan nahin milta

झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं
दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं

Jhuki jhuki si nazar be-qaraar hai ki nahin
Daba daba sa sahi dil mein pyar hai ki nahin

पेड़ के काटने वालों को ये मालूम तो था
जिस्म जल जाएँगे जब सर पे न साया होगा

Ped ke kaatne waalon ko ye maaloom to tha
Jism jal jaayenge jab sar pe na saaya hoga

बेलचे लाओ खोलो ज़मीं की तहें
मैं कहाँ दफ़्न हूँ कुछ पता तो चले

(बेलचे = कुदाल)

Belche laao kholo jameen ki tahein
Main kahan dafan hun kuchh pata to chale

जिस तरह हँस रहा हूँ मैं पी पी के गर्म अश्क
यूँ दूसरा हँसे तो कलेजा निकल पड़े

(अश्क़ = आंसू, Tears)

Jis tarah has rahan hun main pee pee ke garm ashq
Yun dusara hase to kaleza nikal pade

बरस पड़ी थी जो रुख़ से नक़ाब उठाने में
वो चाँदनी है अभी तक मेरे ग़रीब-ख़ाने में

Baras padi thi jo rukh se naqaab uthaane mein
Wo chandani hai abhi tak mere gareeb-khaane mein

बस्ती में अपने हिन्दू मुसलमाँ जो बस गए
इंसाँ की शक्ल देखने को हम तरस गए

Basti mein pane hindu musalmaan jo bas gaye
Insaan ki shql dekhne kom ham taras gaye

बहार आए तो मेरा सलाम कह देना
मुझे तो आज तलब कर लिया है सहरा ने

Bahaar aaye to mera salaam kah dena
Mujhe to aaj talab kar liya hai sehara

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigaah
Jo khsh to ho gaya magar aansoo nikal pade

रहें न रिंद ये वाइज़ के बस की बात नहीं
तमाम शहर है दो चार दस की बात नहीं

Rahein na rind ye waaiz ke bas ki baat nahin
Tamaam shehar hai do chaar das ki baat nahin

इसी में इश्क़ की क़िस्मत बदल भी सकती थी
जो वक़्त बीत गया मुझ को आज़माने में

Isi mein ishq ki kismat badal bhi sakti thi
Jo waqt beet gaya mujh ko aazmaane mein

वक्त ने किया क्या हंसी सितम
तुम रहे न तुम, हम रहे न हम

Waqt ne kiya kya haseen sitam
Tum rahe na tum, ham rahe na ham

क्या जाने किसी की प्यास बुझाने किधर गयीं
उस सर पे झूम के जो घटाएँ गुज़र गयीं

Kya jaane kisi ki pyaas bujhane kidhar gayi
Us sar pe jhoom ke jo ghataayen gujar gayi

कोई तो सूद चुकाए, कोई तो जिम्मा ले
उस इंक़िलाब का जो आज तक उधार सा है

Koi to sood chukaaye, koi to jimma le
Us inkilaab ka jo aaj tak udhaar sa hai

मैं ढूंढता हूँ जिसे वह जहाँ नहीं मिलता
नई ज़मीं नया आसमां नहीं मिलता

Main dhoondta hun jise wah wahan nahin milta
Nai jameen naya aasmaan nahin milta